आभासी दुनिया का शिकार होते बच्चे

आभासी दुनिया का शिकार होते बच्चे

बच्चे भविष्य की नींव है और भविष्य इस बात पर ही निर्भर करता है कि आज बच्चों का मानसिक, शारीरिक, सामाजिक विकास कैसा है? आज हर घर में बच्चे को जो सिखाया जाएगा, अपनी युवावस्था में वह उसी परम्परा को वह आगे बढ़ाएगा। यदि बच्चों को एक अच्छा परिवेश दिया जाए तो राष्ट्र, समाज, सब सुंदर हो सकते हैं पर इसी के स्थान पर यदि उनके विकास, उनकी परवरिश को नज़रअंदाज कर दिया जाए तो भविष्य भी घातक सिद्ध होगा।

एक बच्चा जब अपने बालपन में होता हैं, तब उसमें कई विचारों के बीज होते हैं। अच्छे-बुरे सभी प्रकार के, जो उसे अपने परिवेश से मिलते हैं परंतु यह हम पर निर्भर करता है कि हम किस विचार किन बातों को उसमें सींचते हैं और पनपने देते हैं। जब बच्चे की उम्र बढ़ती है तो केवल उसका शरीर ही नहीं बढ़ता, उसके ये विचार भी साथ-साथ बढ़ते हैं और उसके परिवेश की झलक उसके विचारों में साफ़ दिखाई पड़ती है। इसलिए एक अच्छे सुनहरे भविष्य के लिए नींव की और दृष्टि डालनी ज़रूरी है।

फ़ोटो:- संडे गार्जियन

बच्चों के जीवन में अहम भूमिका परिवेश की होती है। चूँकि बच्चों में अनुसरण की प्रवृत्ति होती है, इसलिए जो भी उन्हें अपने परिवेश अर्थात घर, पास-पड़ोस, स्कूल, दोस्तों आदि में माहौल में मिलता है, वे उसी को अपनाते हैं और उसी में बड़े होते हैं। उस समय सही-गलत में फर्क कर पाना उनके लिए सम्भव नहीं। सही-गलत क्या है या उन्हें किस तरह का परिवेश हमें देना होगा, यह सोचना तब बड़ों की जिम्मेदारी हो जाती है। वर्तमान में यह एक बड़ा खतरा और सवाल बनकर उभरा है। कारण है वैश्वीकरण और औद्योगिकीकरण। 

आज परिस्थितियाँ पहले जैसी नहीं हैं, जहाँ बच्चों का लालन-पालन संयुक्त परिवारों में होता था। जहाँ माता-पिता यदि बच्चों को नहीं सम्भाल पाते थे, तो उनके दादा-दादी, चाचा-चाची आदि परिवार के सदस्य उन्हें सम्भालते थे और एक अच्छा परिवेश उन्हें देते थे। यहाँ तक कि ग्रामीण इलाकों में केवल परिवार ही नहीं पड़ोस के बच्चों को उसी प्रेम की दृष्टि से देखते थे। साथ ही माता-पिता की भी बराबर प्रेम और दृष्टि उन्हें मिल पाती थी। कम-से-कम माँ की मौजूदगी से बच्चे को एक अच्छा परिवेश मिलता ही था।

फ़ोटो: india.com

लेकिन वर्तमान में औद्योगिकीकरण और वैश्वीकरण ने इस पूरे परिवेश को ही पलट कर रख दिया है। अब एकल परिवार रहे हैं जहाँ बच्चों को देखने वाला कोई नहीं। दादी की कहानियों और तरह-तरह के खेलों की जगह मोबाइल ने ले ली। माता-पिता इसके घातक परिणाम को देखे बिना उन्हें फोन थमाने से नहीं चूकते, क्योंकि उनका व्यक्तगत जीवन बहुत व्यस्त और तनावपूर्ण है। सम्बन्धों के दायरे सीमित हो गए हैं। अब पास-पड़ोस बच्चों के लिए पहले की भाँति नहीं रहे। ये दायरे सम्बन्धों में, तो आप ही बच्चों के जीवन में भी आए हैं। वे घरों में कैद होने को मजबूर हैं। चूँकि माँ बाप आजकल दोनों ही कमाते हैं, और वर्तमान की जीवनशैली के चलते यह जरूरी भी होता जा रहा है, बच्चों को देख-रेख पहले मिलती थी वह भी जीवन की भागदौड़ में खत्म हो गयी है।

सामान्यतः बच्चों को सम्भालना हमारे पितृसत्तात्मक समाज में महिलाओं की ही जिम्मेदारी समझी गयी है, इसलिए पुरुष कामकाजी महिलाओं के जीवन को नज़रअंदाज करते हुए उनसे अभी भी इस पारम्परिक जिम्मेदारी को अकेले निभाने की उम्मीद करते हैं। वह इसे इस तरह से नहीं देखते कि दोनों यदि कामकाजी हैं, तो बच्चे को लेकर भी दोनों की जिम्मेदारी में साझेदारी होना जरूरी है और अक्सर इसी बात को न समझ पाने के चलते दोनों का अहं टकराता है, जिसका प्रभाव भी बच्चे की मनोस्थिति पर बुरा पड़ता है। कई बार बात सम्बन्ध विच्छेद तक पहुँच जाती है, अर्थात तलाक, जिसका सबसे बुरा प्रभाव बच्चों पर पड़ता है। इस प्रकार बच्चों की दुनिया एकल परिवारों, सम्बन्धों की टकराहट और टूटते सम्बन्धों आदि के बीच सिमट कर रह जाती है और वह घर में कैद हो जाने को मजबूर हो जाते हैं। 

फ़ोटो;- parentcircle.com

वैश्वीकरण ने इंटरनेट-मोबाइल आदि को जीवन मैं जिस तरह स्थापित किया, उसके कारण बच्चों की जहाँ पहले किताबी और अखबारों की आदत लगती थी, वह जगह अब मोबाइल और इंटरनेट ने ले ली है। यह सकारात्मक रूप में कम लेकिन नकारात्मक रूप में बच्चों को अधिक प्रभावित कर रहा है। घर में ही सिमटे बच्चे अधिक-से-अधिक समय यहीं बिताने लगे हैं जोकि बच्चों को बच्चों की तरह नहीं, बल्कि रोबोट या मशीन की तरह बड़ा कर रहे। यह उनमें मासूमियत, संवेदनशीलता, भावनाओं-लगाव आदि को भी कम करता जा रहा है और यही आगे चलकर बच्चों का मनोविज्ञान भी तय करने लगता है। धीरे-धीरे बच्चों के आस-पास एक मशीनी परिवेश बनता जा रहा है, जिसकी शुरुआत घर से ही होती है।

कोरोना महामारी के बाद बच्चों का स्कूल-कॉलेज सब ऑनलाइन माध्यम में समाहित हो गया, जिसके चलते उनका अधिक-से-अधिक समय मोबाइल पर बीतने लगा। यहाँ तक कि जिन बच्चों को अलग से मोबाइल फोन की सुविधा नहीं थी, इस परिस्थिति के चलते उनको भी मोबाइल फोन उपलब्ध कराए गए। उस दौर में मैंने अपने आस-पास कई लोगों से यह सुना कि जब से उनके बच्चे अधिक समय क्लास के बाद भी मोबाइल फोन पर ही बिताते हैं। इंटरनेट या मोबाइल पूरी तरह से नकारात्मक नहीं हैं किंतु उसके प्रति बच्चों का आकर्षण, सब कुछ भूलकर अधिक-से-अधिक समय उस पर बिताना, उनकी सिमटी हुई दुनिया को और सिमट जाने पर मजबूर कर देगी।

फ़ोटो:- cnet.com

बदलते भौगोलिक व सामाजिक परिवेश और बिखरते सम्बन्धों में बची-खुची सम्वेदना और प्रेम को यह तकनीकी युग खत्म कर देगा। इसलिए हमें आवश्यकता है कि न केवल बच्चों के शारीरिक, बल्कि मानसिक स्वास्थ्य व उसके परिवेश पर हम पूरा ध्यान दें। केवल मोबाइल के सदुपयोग को ही उन्हें न सिखाएँ, बल्कि उन्हें संवेदनशील बबनाएँ, जोकि आज समाज की ज़रूरत भी है। साथ ही उनके साथ अधिक समय बिताएँ, ताकि वे प्रेम, लगाव आदि के साथ-साथ नैतिक मूल्यों को भी सीखें और अच्छे विचारों का भी उनमें प्रसार हो। सम्भवतः इस प्रकर उनकी दुनिया के दायरे आभासी दुनिया से निकल कर थोड़े और बड़े हो जाएँ…

सम्पादकीय: ‘कौमुदी’ नवंबर 2021 (10वाँ अंक) में प्रकाशित।

1,102 thoughts on “आभासी दुनिया का शिकार होते बच्चे

    1. It’s perfect time to make some plans for the future and
      it is time to be happy. I have read this post and if I could I want to suggest you some interesting things or advice.
      Perhaps you can write next articles referring to this article.
      I want to read more things about it!

    2. I am really impressed with your writing talents and also with the format in your
      blog. Is that this a paid subject matter or did you customize it your self?
      Either way keep up the excellent high quality writing, it’s rare to peer a great weblog like this one nowadays..

    3. I was recommended this website by way of my cousin. I’m not certain whether
      or not this publish is written by him as no one else know such particular approximately my trouble.
      You’re amazing! Thanks!

    4. I’m now not certain where you are getting your info, however great topic.
      I needs to spend some time learning much more or
      figuring out more. Thank you for wonderful info I was
      in search of this info for my mission.

  1. amoxicillin discount coupon: [url=http://amoxicillins.com/#]buy amoxicillin online with paypal[/url] can we buy amoxcillin 500mg on ebay without prescription

  2. top 10 pharmacies in india [url=https://indiapharmacy.cheap/#]top 10 online pharmacy in india[/url] buy prescription drugs from india

  3. where to get zithromax [url=http://azithromycinotc.store/#]azithromycin 500 mg buy online[/url] can i buy zithromax over the counter

  4. Claves para retener el talento después de las vacaciones: el webinar, en diferido Esta wallet de código abierto es una interfaz gratuita del lado del cliente que lo ayuda a interactuar con la cadena de bloques de ethereum, capaz de albergar token basados en ERC20. Además de ser la más usada, se considera una de las wallets más confiables entre las opciones gratuitas para la gestión de esta criptomoneda. Las billeteras digitales sirven para lo mismo que una física, guardar tus monedas digitales. Aquí vamos a hablar de las principales diferencias entre los dos tipos que existen, incluyendo el porqué una es más segura que la otra. Estas billeteras funcionan con unas claves que debe introducir el propietario, unas contraseñas que nunca deben escribirse en ningún soporte y que son intransferibles. Estas palabras de paso tienen que permanecer secretas para el resto de personas que, por otra parte, tendrán que recordar en todo momento cada vez que quieran realizar cualquier transacción con su monedero.
    https://devinetci321098.blog-mall.com/196711/juegos-para-ganar-criptomonedas-en-android
    Y si bien aún no hay fecha definitiva para el cambio a CBDCs, este será un tema muy sonado en 2023. Si tienes una tienda online, es indispensable que ofrezcas las mayores facilidades a la hora de recibir pagos en tu tienda, y que tus clientes puedan tener alternativas dependiendo de las regulaciones de cada país. Recuerda que Shopify te ofrece distintas opciones para protegerte de pagos fraudulentos, que puedes incorporar a tu tienda de forma simple y rápida. ¿Se nos ha olvidado algo en las tendencias sobre métodos de pago? Déjanos saber en los comentarios. En cuanto a las grandes marcas, muchas de ellas han estado experimentando con las NFT en los últimos dos años en pequeñas cantidades. Creo que en 2023, las grandes marcas dejarán de experimentar con colecciones de NFT de menos de 10K y empezarán a impulsar cifras muy grandes en términos de lanzamiento de NFT y creación de experiencias únicas para sus audiencias. Adidas lideró el pelotón con una colección de NFT de 40K el año pasado y creo que veremos múltiples colecciones de NFT de más de 100K en 2023.

  5. mexican drugstore online [url=http://mexicanpharmacy.site/#]buy drugs at mexican pharmacy[/url] reputable mexican pharmacies online

  6. mexican pharmacy [url=https://mexicanpharmacy.site/#]buy drugs at mexican pharmacy[/url] mexican online pharmacies prescription drugs

  7. This is the right blog for anyone who wants to find out about this topic. You realize so much its almost hard to argue with you (not that I actually would want…HaHa). You definitely put a new spin on a topic thats been written about for years. Great stuff, just great!

  8. india pharmacy mail order: india pharmacy – best online pharmacy india indiapharmacy.pro
    buy prescription drugs from canada cheap [url=http://canadapharmacy.guru/#]canadian pharmacy reviews[/url] canadian pharmacy online ship to usa canadapharmacy.guru

  9. safe canadian pharmacies: canadian online drugstore – canadian pharmacy com canadapharmacy.guru
    canadian pharmacies online [url=http://canadapharmacy.guru/#]reputable canadian online pharmacies[/url] legit canadian online pharmacy canadapharmacy.guru

  10. drugs from canada: online canadian pharmacy – pharmacies in canada that ship to the us canadapharmacy.guru
    reputable canadian online pharmacy [url=http://canadapharmacy.guru/#]my canadian pharmacy reviews[/url] canadian family pharmacy canadapharmacy.guru

  11. best online pharmacy india: indianpharmacy com – buy prescription drugs from india indiapharmacy.pro
    medicine in mexico pharmacies [url=https://mexicanpharmacy.company/#]mexico drug stores pharmacies[/url] mexican drugstore online mexicanpharmacy.company

  12. mexican border pharmacies shipping to usa: medicine in mexico pharmacies – mexico pharmacies prescription drugs mexicanpharmacy.company
    п»їbest mexican online pharmacies [url=http://mexicanpharmacy.company/#]pharmacies in mexico that ship to usa[/url] mexico pharmacies prescription drugs mexicanpharmacy.company

  13. mexican online pharmacies prescription drugs: mexican drugstore online – pharmacies in mexico that ship to usa mexicanpharmacy.company
    mexican drugstore online [url=https://mexicanpharmacy.company/#]mexican mail order pharmacies[/url] purple pharmacy mexico price list mexicanpharmacy.company

  14. cheapest online pharmacy india: top 10 pharmacies in india – top 10 pharmacies in india indiapharmacy.pro
    mexican mail order pharmacies [url=https://mexicanpharmacy.company/#]reputable mexican pharmacies online[/url] mexican rx online mexicanpharmacy.company

  15. can i buy amoxicillin over the counter in australia [url=http://amoxicillin.best/#]cheap amoxicillin[/url] amoxicillin 500mg prescription